Medi Help Hospital

बच्चों में कान का संक्रमण: लक्षण और कारण

इस ब्लॉग में, हम बच्चों में कान के संक्रमण के बारे में चर्चा करेंगे, जिसमें इसके लक्षण, कारण और उपचार शामिल हैं।

कान का संक्रमण क्या है?

कान का संक्रमण, जिसे ओटिटिस मीडिया भी कहा जाता है, मध्य कान में सूजन और संक्रमण होता है। यह बच्चों में एक आम समस्या है, खासकर 6 महीने से 2 साल की उम्र के बीच।

कान के संक्रमण के लक्षण

कान के संक्रमण के कुछ सामान्य लक्षणों में शामिल हैं:

  • कान में दर्द: यह कान के संक्रमण का सबसे आम लक्षण है। दर्द तेज या धीमा हो सकता है और यह आने-जाने वाला हो सकता है।
  • कान से बहना: कान से पानी जैसा, पतला या गाढ़ा, पीला या सफेद तरल पदार्थ निकल सकता है।
  • बुखार: कान के संक्रमण के साथ अक्सर बुखार होता है, जो 100.4°F (38°C) तक हो सकता है।
  • सुनने में कमी: कान के संक्रमण से सुनने में थोड़ी कमी हो सकती है, जो आमतौर पर संक्रमण ठीक होने के बाद चली जाती है।
  • चिड़चिड़ापन: छोटे बच्चे कान में दर्द के कारण चिड़चिड़े या बेचैन हो सकते हैं।
  • सोने में परेशानी: कान में दर्द से बच्चे को सोने में परेशानी हो सकती है।
  • भूख में कमी: कान में दर्द के कारण बच्चे की भूख कम हो सकती है।
  • सिरदर्द: कुछ बच्चों को कान के संक्रमण के साथ सिरदर्द भी हो सकता है।

कान के संक्रमण के कारण

कान के संक्रमण आमतौर पर वायरस या बैक्टीरिया के कारण होते हैं जो Eustachian ट्यूब के माध्यम से मध्य कान में प्रवेश करते हैं। Eustachian ट्यूब एक छोटी नली है जो मध्य कान को नाक और गले से जोड़ती है।

कुछ अन्य कारक जो कान के संक्रमण के खतरे को बढ़ा सकते हैं उनमें शामिल हैं:

  • छोटी उम्र: 6 महीने से 2 साल की उम्र के बीच के बच्चे कान के संक्रमण के लिए सबसे अधिक संवेदनशील होते हैं।
  • डेकेयर या प्रीस्कूल में जाना: डेकेयर या प्रीस्कूल में जाने वाले बच्चों को अन्य बच्चों से संक्रमण फैलने का खतरा अधिक होता है।
  • एलर्जी: एलर्जी वाले बच्चों को कान के संक्रमण का खतरा अधिक होता है।
  • बड़ा एडिनोइड: एडिनोइड नाक और गले के पीछे स्थित ऊतक होते हैं। बड़े एडिनोइड Eustachian ट्यूब को अवरुद्ध कर सकते हैं, जिससे संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है।
  • धूम्रपान: धूम्रपान करने वाले माता-पिता के बच्चों को कान के संक्रमण का खतरा अधिक होता है।

कान के संक्रमण का उपचार

नाक की भीड़ को कम करने के लिए नाक की बूंदें या स्प्रे भी दिए जा सकते हैं। यह Eustachian ट्यूब को खोलने में मदद कर सकता है और संक्रमण को साफ करने में मदद कर सकता है।

कुछ मामलों में, दर्द को कम करने के लिए गर्म या ठंडा सेंक लगाने से भी मदद मिल सकती है।

यदि आपका बच्चा बार-बार कान के संक्रमण से पीड़ित है, तो डॉक्टर यह सलाह दे सकते हैं कि कान में ट्यूब डाली जाएं। ये छोटी ट्यूबें मध्य कान में तरल पदार्थ के निकलने में मदद करती हैं और भविष्य के संक्रमणों को रोक सकती हैं।

डॉक्टर को कब दिखाएं

यदि आपके बच्चे में कान के संक्रमण के कोई लक्षण हैं, तो जल्द से जल्द डॉक्टर को दिखाना महत्वपूर्ण है। शीघ्र उपचार संक्रमण को बिगड़ने से रोक सकता है और सुनने की समस्याओं जैसे संभावित जटिलताओं को कम कर सकता है।

आपको डॉक्टर को तुरंत दिखाना चाहिए अगर आपके बच्चे में:

  • तेज कान दर्द
  • 102°F (38.9°C) से अधिक बुखार
  • कान से खूनी या बदबूदार तरल पदार्थ का निकलना
  • सुनने में कमी
  • गंभीर सिरदर्द
  • गर्दन की जकड़न

निष्कर्ष

कान का संक्रमण बच्चों में एक आम समस्या है। सौभाग्य से, ज्यादातर कान के संक्रमण का इलाज आसानी से किया जा सकता है। यदि आप अपने बच्चे में कान के संक्रमण के किसी भी लक्षण को पहचानते हैं, तो जल्दी से डॉक्टर से संपर्क करें।

Medihelp Hospital में, हमारे पास अनुभवी बाल रोग विशेषज्ञ और ईएनटी विशेषज्ञों की एक टीम है जो आपके बच्चे के कान के संक्रमण का निदान और उपचार करने में मदद कर सकती है।

अधिक जानकारी के लिए या अपॉइंटमेंट शेड्यूल करने के लिए, आज ही Medihelp Hospital से संपर्क करें।

Medihelp Hospital
पता: 117/K 22 सर्वोदय नगर, कानपुर, उत्तर प्रदेश
फोन: 98398 00817

ध्यान दें: यह ब्लॉग केवल जानकारी के उद्देश्य से है और चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। चक्कर आने या किसी अन्य स्वास्थ्य समस्या के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से सलाह लें।

Dr. Sangeeta Sengar

Dr. Sangeeta Sengar

Medihelp Hospital में डॉ. संगीता सेंगर एक अनुभवी ईएनटी विशेषज्ञ हैं। वह सुनने की हानि के उपचार में विशेषज्ञता रखती हैं और सुनने की समस्याओं वाले रोगियों को व्यापक देखभाल प्रदान करने के लिए जानी जाती हैं।

Get The Free Consultation Service